टेन न्यूज़ नोएडा विकास परिचर्चा में फोनरवा चुनाव के तीनो पैनल ने प्रस्तुत की “स्मार्ट नोएडा” की परिकल्पना

ROHIT SHARMA / LOKESH GOSWAMI

0 333

नोएडा :– 21 जुलाई को फोनरवा के चुनाव होने वाले है , जिसको लेकर हर उम्मीदवार जोरशोर से प्रचार करने में लगा हुआ है । साथ ही सभी उम्मीदवार हर सेक्टरों में दौरा कर सभी आरडब्लूए के अध्यक्ष समेत पदाधिकारियों से मुलाकात कर मतदान करने की अपील भी कर रहे है , जिससे उनका पैनल जीत कर नोएडा के सभी सेक्टरों का विकास कर सके ।



कोनरवा संस्था के वरिष्ठ पदाधिकारी बिरगेडियर अशोक हक का कहना है कि जो भी पैनल जीतकर आए , उसका सिर्फ एक मकसद होना चाहिए कि नोएडा के सभी सेक्टरों में विकास हो । अगर ये पैनल इस दिशा में चलता है तो आने वाले समय बहुत सी संस्था आपके साथ खड़ी मिलेगी ।

वही आज टेन न्यूज़ ने फोनरवा का नोएडा के विकास में योगदान विषय पर संगोष्ठी का आयोजन किया गया । ये संगोष्ठी का कार्यक्रम नोएडा के सेक्टर 6 स्थित एनईए सभागार में किया गया । इस कार्यक्रम में फोनरवा चुनाव के उम्मीदवार तीनों पैनलों के अध्यक्ष , महासचिव समेत सदस्य , एनईए के अध्यक्ष विपिन मल्हान , कोनरवा के वरिष्ठ पदाधिकारी ब्रिगेडियर अशोक हक , कल्पना भूषण , एनपी सिंह , ए एन धवन , नवरत्न फॉउंडेशन्स के अध्यक्ष अशोक श्रीवास्तव और नोएडा के तमाम आरडब्ल्यूए के अध्यक्ष , महासचिव शामिल रहे ।

वही इस कार्यक्रम का संचालन टेन न्यूज़ के सलाहकार एवं नवरत्न फॉउंडेशन्स के अध्यक्ष अशोक श्रीवास्तव ने किया । उन्होंने तीनों पैनल के उम्मीदवारों के सामने प्रशनों का अंबार खड़ा किया , जिसका जवाब इस कार्यक्रम में आए गणमान्य लोगों ने सुना । जिससे सभी को पता चल सके कि तीनों पैनल के उम्मीदवारों की क्या प्राथमिकताएं रहेगी , अगर वो जीतते है तो नोएडा में कैसे विकास करेंगे ।

फोनरवा टीम के लिए आपको क्यों चुना जाए :–

ये सवाल सबसे पहले अध्यक्ष पद लड़ रहे सुरेश तिवारी से पूछा गया , जिसको लेकर सुरेश तिवारी ने कहा कि 14 साल से फोनरवा में उन्होंने काम किया है , नोएडा के सभी सेक्टरों के पदाधिकारियों से लगातार मुलाकात करते रहे है , जितनी भी समस्या सेक्टरों के आरडब्ल्यूए के पदाधिकारियों को होती है , उसका समाधान समय पर करवाया गया है । जो भी वादे किए थे , उसको पूरा करने का प्रयास किया गया है । बहुत से मुद्दे को लेकर आरडब्ल्यूए के साथ खड़ा होकर आवाज उठाई , साथ ही महत्वपूर्ण बिन्दु पर नोएडा प्राधिकरण के अधिकारियों से वार्तालाप की । ये बात साफ है जो कार्य करेगा , वो इस पद का हकदार है ।

वही सुरेश तिवारी पैनल से महासचिव पर लड़ रहे के.के जैन ने कहा कि इस बार जो घोषणा पत्र जारी किया है , उस पर अमल किया जाएगा । साथ ही इस चुनाव में जीतते है तो हर काम मे पारदर्शिता रहेगी , जिससे सभी को पता चल सके कि फोनरवा की टीम ने क्या काम कर रहे है , कितना पैसा खर्च हो रहा है ।

साथ ही अध्यक्ष पद पर लड़ रहे सुखदेव शर्मा का कहना है की जो वादे किए है उसको दो साल के अंदर पूरा करके दिखाएंगे । साथ ही उनका कहना है कि जो घोषणा पत्र में लिखा है उसको द्वारा रिपीट नही किया जाएगा , सभी आरडब्ल्यूए के अध्यक्ष और पदाधिकारियों के साथ मिलकर काम करेंगे ।

वही सुखदेव शर्मा पैनल के सदस्य सुजीत पांडेय ने कहा कि फोनरवा टीम में एक्सपर्ट होने चाहिए , जिनको सभी विषय मे अनुभव हो । ताकि नोएडा के सभी सेक्टरों में विकास हो सके ।

वही दूसरी तरफ अध्यक्ष पद पर लड़ रहे योगेंद्र शर्मा का कहना है कि 12 साल में जो काम नही हुआ , उसको हम 2 साल के अंदर पूरा करके दिखाएंगे । हम बाते नही करते , काम करते है ।काम के लिए मतदाता हमारे पैनल को चुनेंगे ।

कानून व्यवस्था , बिजली और पानी पर कैसे काम करेंगे , जिससे सुविधा बेहतर हो सके ।

जिस पर सुरेश तिवारी ने कानून व्यवस्था पर कहा कि फोनरवा टीम में रहते हुए एसएसपी , जिला अधिकारी के साथ हर महीने बैठक की , जिसमे बहुत सी समस्याओं का निस्तारण किया गया । हर सेक्टरों में पुलिस दिन रात गस्त कर रही है । पानी को लेकर नोएडा प्राधिकरण के अधिकारियों से वार्तालाप की थी , साथ ही सीईओ आलोक टण्डन को पत्र भी लिखा , जिस पर कार्य भी किया गया । बिजली को लेकर बिजली विभाग के अधिकारियों से वार्ता की गई , जिससे समस्याओ का समाधान हो सके । साथ ही इन सभी समस्याओं पर आगे भी काम किया जाएगा , जिससे सेक्टर के निवासियों को परेशानी का सामना न करना पड़े ।

वही इस मामले में सुखदेव शर्मा का कहना है कि पानी , कानून व्यवस्था , बिजली पर विशेष ध्यान दिया जाएगा । जिस सेक्टर में यह समस्या चल रही होगी , उसको 24 घण्टे के अंदर निस्तारण करवाया जाएगा । साथ ही उन्होंने कहा कि फोनरवा में अगर हम जीतते है तो ऑनलाइन साइट बनाए जाएगी । जिसमें सभी विभाग जुड़ा होगा । जो भी विषय मे कोई भी समस्या होगी उसकी एक शिकायत कॉपी उस विभाग में जाएगी , साथ ही वो कॉपी फोनरवा के पास भी आएगी । जिससे पता चल सकेगा की उस समस्याओं का निस्तारण हुआ या नही , अगर उस पर कार्य किया जा रहा है तो कितना समय लगेगा , उस पर हमारा पैनल ध्यान देगा ।

योगेंद्र शर्मा का कहना है कि इस मामले में अधिकारियों से वार्तालाप करके , साथ ही मौके पर जाकर सभी समस्याओं का निस्तारण किया जाएगा । कानून व्यवस्था को लेकर पुलिस विभाग के अधिकारियों से वार्तालाप करेंगे , साथ ही पुलिसकर्मियों की संख्या बढ़ाने के लिए डीजीपी से अनरोध करेंगे , जिस इस समस्या का निस्तारण हो सके । बिजली की लाइन सभी सेक्टरों में अंडरग्राउंड करवाएंगे , जिससे बिजली की समस्या खत्म हो सके । वही पानी की समस्याओं को लेकर नोएडा प्राधिकरण के अधिकारियों से बातचीत करेंगे , साथ ही जल सरक्षण को लेकर नोएडा के निवासियों को जागरूक करेंगे ।

सेक्टर के निवासियों से किस तरीके से सम्बंध बेहतर बनाएंगे

योगेंद्र शर्मा ने कहा कि नोएडा शहर में कल्चर एक्टिविटी होनी चाहिए , जिससे हर महीने निवासियों से रूबरू हो सके । 14 साल से नोएडा के अंदर फोनरवा की तरफ से कोई भी कल्चर एक्टिविटी नही हुई । अगर हम फोनरवा का चुनाव जीतते है तो कल्चर एक्टिविटी की शुरुआत करेंगे ।

क्या नोएडा को नगरपालिका बनना चाहिए :–

तीन पैनलों ने कहा कि नोएडा को नगरपालिका बनाने के लिए एक्सपर्ट की राय जरूर लेंगे । नोएडा में नगरपालिका आएगी , जिसका हम समर्थन करते है । नगरपालिका होने से बहुत सी समस्याओं का निस्तारण हो जाएगा , लेकिन एक्सपर्ट की राय जरूर लेंगे ।

नोवेरा संस्था के अध्यक्ष रंजन तोमर ने कहा कि मैं सबसे पहले फोनरवा के वर्तमान अध्यक्ष एनपी सिंह जी का आभार व्यक्त करता हूं, जिन्होंने फोनरवा का अध्यक्ष रहते हुए शहर के लिए बहुत अच्छा काम किया है। उन्होंने कहा कि मेरा सवाल तीनों पैनलों से है क्योंकि तीनों पैनल के लोग आरडब्लूए या किसी ना किसी संस्था के साथ शहर के विकास में एक्टिव रहे हैं।

उन्होंने कहा कि फोनरवा के तीनों पैनल के घोषणा पत्र में ग्रामीण क्षेत्रों के विकास की बात नहीं की गई है। जबकि पूरे शहर की बात करते हैं तो हॉलिस्टिक डेवलपमेंट का मुद्दा नहीं उठाया गया। फोनरवा गांव और शहर के मुद्दों को एक साथ नहीं उठा पाई । नोएडा में 81 गांव हैं जिन का विकास अधूरा है, गांव से ही शहर बनते हैं।

आगे उन्होंने कहा कि नोएडा अथॉरिटी अंग्रेजी शासन की तरह है और हम लोग अपने स्वराज की मांग भी नहीं उठाते हैं । नोएडा प्राधिकरण इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट अथॉरिटी के रूप में काम कर रही है और उसके खिलाफ हम लड़ भी नहीं रहे हैं उसका क्या कारण है?

इस पर तीनों पैनलों का कहना है कि नोएडा शहर गांव में ही बसा हुआ है हर सेक्टर के आसपास में देखेंगे तो गांव ही गांव है । आज गांवों में जा कर देखिए वहां पर बड़ी सुंदर सड़के बनी हुई है, नालियों की व्यवस्था की गई है, हर घर के पास में मर्सिडीज गाड़ियां हैं। हम चाहते हैं कि जैसे हमारे सेक्टर व्यवस्थित तरीके से रहे, वैसे ही गांव का भी विकास होता रहे और हम गांव की आवाज भी प्राधिकरण में उठाते आए हैं। उन्होंने कहा कि नोएडा में जितने भी गांव हैं, सब खुशहाल हैं। फोनरवा गांव के विकास के पक्ष में थी, है, और रहेगी।

सेक्टर 26 आरडब्ल्यूए के अध्यक्ष विमल शर्मा ने सवाल पूछते हुए कहा कि हम तीनों पैनलों को वोट क्यों दें? उसका कारण हमें बताइए और उन्होंने कहा कि नोएडा में नगर पालिका का गठन करने की बात यहां पर कहीं जा रही है ।आज तक नोएडा के सांसद और विधायक बोर्ड में नगर पालिका की आवाज नहीं उठा पाए हैं, तो फोनरवा कैसे उठा सकती है?

पैनलों ने इसका जवाब देते हुए कहा कि नोएडा में नगर पालिका के गठन के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं।फोनरवा और शहर की तमाम आरडब्ल्यूए ने प्राधिकरण में नगर पालिका बनाने की मांग उठाई है और इस पर लगातार मांग होती रहेगी। पैनलों का कहना है कि शहर में जितनी भी परेशानियां हैं, वे उनकी मांगों को प्राधिकरण में उठाएंगे और जल्द से जल्द उनका निस्तारण कराने की कोशिश करेंगे।

पानी, बिजली, पार्कों की सफाई, सड़क पर अतिक्रमण जैसी तमाम समस्याओं का निस्तारण कराया जाएगा। इसके लिए डीएम प्राधिकरण और पुलिस का सहयोग लेकर जल्द से जल्द इन समस्याओं से छुटकारा दिलाया जाएगा।

नोएडा एंटरप्रेन्योर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष विपिन मल्हन ने कहा कि मेरे सामने तीनों पैनल बैठे हैं और मैं तीनों पैनलों को अपनी हार्दिक शुभकामनाएं देता हूं। उन्होंने कहा कि पिछले 14 सालों से फोनरवा के अध्यक्ष एनपी सिंह ने अपनी जिम्मेदारियों को बखूबी से निभाया है और अब इन तीनों पैनलों में से कोई एक नई कमेटी चुनकर आएगी जो शहर के विकास को ध्यान में रखकर अपने कार्य आगे बढ़ाएं।

उन्होंने कहा कि फोनरवा को नाली, सीवर, सड़क से ऊपर उठकर कार्य करना होगा । यह कार्य तो सेक्टर की आरडब्लूए भी कर सकती है । फोनरवा को शहर के ज्वलंत मुद्दे नोएडा प्राधिकरण के समक्ष उठाने चाहिए, जैसे कि अगर मैं बिजली का कनेक्शन लेने जाता हूं तो वहां पर रिश्वत ली जाती है , कंस्ट्रक्शन का काम कराने जाता हूं तो वहां पर रिश्वत ली जाती है।

हर चीज में यहां पर रिश्वत ली जाती है। उसका समाधान फोनरवा को निकालना चाहिए। फोनरवा के अधिकारी अब तक हाथ जोड़कर नोएडा प्राधिकरण के अधिकारियों से मिलते हैं और उनसे कार्य कराने के लिए बोलते हैं। अब ऐसा नहीं होना चाहिए, सीना ठोक कर प्राधिकरण में जनता के प्रतिनिधि जाएं और अपनी बात उठाएं।

//tennews.in/ten-news-seminar-on-noida-development-and-fonrwa-2019-elections-video-highlights/

 

//tennews.in/ten-news-seminar-on-noida-development-and-fonrwa-2019-elections-photo-highlights/

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.