- Advertisement -

OCI Solar Power, CPS Energy and Hyundai Motor to test an innovative way to store energy

0 51

आज भी भारत की संस्कृति को पूरे जोश से जीने वाले, यंग मिलियनेयर ग्रुप ऑफ हांगकांग, एमिगोस ने गणेश चतुर्थी पर समाज के लिए एक दुर्लभ उदाहरण स्थापित किया | उन्होंने गणपति पूजन को बहुत ही ‘स्वास्थ्यवर्धक गणपति पूजन’ किया। उन्होंने सफेद और डार्क चॉकलेट से बनी दो गणेश प्रतिमाएं तैयार करवाई और स्थापना के तीन दिनों के बाद, उन्होंने दूध में मूर्ति को विसर्जित कर पूजा में उपस्थित सैकड़ों भारतीय को प्रसाद के रूप में चॉकलेट दूध वितरित किया।

हॉन्ग कॉन्ग के एमिगोस मिलियनेयर ग्रुप के प्रेसिडेंट राजू सबनानी का कहना है कि गणेश चतुर्थी जैसे त्यौहार पर्यावरण को बहुत नुकसान पहुंचाते हैं क्योंकि नॉनडिग्रेडेबल सामग्री की मूर्तियाँ पर्यावरण में इतने लंबे समय रहकर वातावरण को दूषित करती हैं। भगवान गणेश को धन, स्वास्थ्य, समृद्धि और अच्छाई के देवता के रूप में जाना जाता है और हमारे चॉकलेट गणेश जीवन में मिठास, अच्छा स्वास्थ्य और समृद्धि लाएंगे।

राजू सबनानी, अध्यक्ष, एमिगोस ने कहा की इस दिन, मैं सभी भारतीयों को पारंपरिक मूर्तियों के बजाय पूजन और विसर्जन के दौरान खाद्य चॉकलेट गणेश की मूर्तियों का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करता हूं क्योंकि पारंपरिक मूर्तियों में रसायन, प्लास्टर ऑफ पेरिस और गैर-बायोडिग्रेडेबल सामग्री का इस्तेमाल होने के कारण पर्यावरण पर विनाशकारी प्रभाव पड़ता हैं।

मेरा मानना है कि पर्यावरणीय नुकसान से बचने के लिए गणपति पूजन में खाने योग्य मूर्तियों के उपयोग के बारे में अधिक से अधिक जागरूकता फैलाने की आवश्यकता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.