कैदियों ने उठाया कोरोना वायरस से लड़ने का जिम्मा, जिला जेल में बना रहे 3 किस्म के मास्क

ABHISHEK SHARMA / HARINDER SHARMA

0 106

Noida : दुनिया भर में कोरोना वायरस लगातार कहर बनकर लोगों पर टूट रहा है। कोरोना वायरस से पीड़ितों की तादाद लगातार बढ़ती जा रही है वहीं भारत में अब तक 2 लोगों की मौत हो चुकी है। ऐसे में कोरोना वायरस से लड़ने के लिए सैनिटाइजर और मास्क बेहद कारगर साबित हो रहे हैं लेकिन ऐसे में जरा सोचिए कि कोराना जैसे वायरस से लड़ने के लिए सैनिटाइजर और मास्को भी जमाखोर मुनाफे के लिए इसकी कालाबाजारी करने में लगे तो पीड़ित लोगों का जीवन कैसे बचाया जाए।

हाल ही में गौतम बुध नगर प्रशासन ने छापा मारकर फर्जी सैनिटाइजर बनाने वाली कंपनी का भंडाफोड़ किया था। ऐसे लोगों को लेकर लगातार जनता को भी जागरूक होना पड़ेगा वहीं शासन ने यूपी की 5 जिलों में मास्क बनाने के लिए आदेश दिए हैं। जेल में बंद कैदी मास्क बना रहे हैं जो कि बाजार में मौजूद ज्यादा कीमत वाले मास्क की तुलना में बेहद कम दामों पर तैयार हो रहे हैं।

गौतम बुध नगर की जिला जेल में 10 बंदी रोजाना लगभग 300 के करीब मास्क बना रहे हैं। गौतम बुध नगर जेल की बात की जाए तो यहां पर तीन तरह के मास्क बनाए जा रहे हैं जो कि बेहद कम दामों में बनकर तैयार हो रहे हैं और उनकी क्वालिटी भी बेहद अच्छी है। गौतम बुध नगर जेल के सिलाई केंद्र में बंदी लगातार अच्छी क्वालिटी के मास्क बना रहे हैं।

जेल अधीक्षक विपिन मिश्रा का कहना है कि जो लोग जमाखोरी कर रहे हैं उनसे निपटने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि अगर कुछ एनजीओ या जनता के जागरूक लोग कच्चा माल जेल प्रशासन को स्वयं की इच्छा से दें तो जेल से बेहद अच्छी क्वालिटी के बहुत ही कम दाम पर मास्क बनाकर तैयार किये जा सकते है।

जेल अधीक्षक विपिन का कहना है कि फ्री ऑफ कॉस्ट पर जिला जेल काम करने को तैयार है ।अगर कोई कच्चा माल दे तो। कोरोना वायरस को लेकर जिला जेल में भी लगातार एफएम रेडियो के माध्यम से अनाउंसमेंट कराया जा रहा है कि कोरोनावायरस से बचने के लिए क्या क्या सावधानियां बरती जानी चाहिए।

जेल के अंदर पोस्टर लगाकर भी लोगों को जागरूक किया जा रहा है। जेल में आने वाले कैदियों की पूरी स्क्रीनिंग के बाद ही उनको बैराको में शिफ्ट किया जा रहा है जबकि अगर कुछ कैदी संदिग्ध लगते हैं तो उनके लिए जेल में एक अलग से वार्ड बनाया गया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.