नोएडा में व्यापारियों का विरोध प्रदर्शन, लगाया जी एस टी के बाद उत्पीड़न का आरोप

0 535

PHOTO.VIDEO.STORY- JITENDER PAL- TEN NEWS (15/02/18)

नोएडा : देश के अंदर जीएसटी लागू हुए 6 महीने से ऊपर हो चुके है लेकिन व्यापारियों की समस्या आज भी बरकरार है। साथ ही सभी व्यापारी वर्ग काफी परेशान है। नोएडा में आज व्यापारियों ने उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल नोएडा इकाई के बैनर तले अपने समस्याओं को लेकर प्रदर्शन किया । व्यापारियों ने कि जब से जीएसटी लागू हुआ है विभाग दारा नए तौर तरीके से व्यापारियों का उत्पीड़न और शोषण किया जा रहा है जिससे व्यापारी बेहद दुखी हैं । केंद्र सरकार ने पूरे देश मे GST पोर्टल आये दिन बंद हो जाता है जिसकी वजह से व्यापारियों को काम करने में काफी परेशानी होती है।

जीएसटी आर3 बी का भार व्यापारियों पर अनावश्यक डाला गया है जीएसटी आर1 जीएसटी आर2 व जीएसटी आर3 बी भी भरना आवश्यक है व्यापारियों ने अनुरोध किया है कि सरकार इस जीएसटी पर जल्द से जल्द सुचारू रूप से काम करें और जीएसटी में एक रिटर्न मासिक या त्रैमासिक धरने की अनिवार्यता रखी जाए जिससे कि जीएसटी पोर्टल सुचारू रूप से कार्य कर सकें और व्यापारियों को आसानी होगी तथा सरकार को मिलने वाले राजस्व में इजाफा होगा । वही व्यापारियों ने बताया कि जीएसटी टैक्स सबसे ज्यादा नोएडा से वसूला जाता है अगर सरकार जीएसटी और पोर्टल पर ध्यान दें तो हम लोग जीएसटी टैक्स आसानी से भरने में कामयाब हो सके । वही व्यापारियों ने कहा कि उत्तर प्रदेश में जीएसटी विभाग का सचल दल और एसआईबी विभाग भ्रष्टाचार के अड्डे बन गए हैं उनके कार्यों पर सख्ती से रोक लगाई जाए । और व्यापार मंडल की अनुमति के बगैर किसी भी जिले में किसी भी प्रतिष्ठान की जांच नहीं की जाए । व्यापारियों ने कहा कि एक देश एक टैक्स एक बाजार के नारे को समर्थन के लिए अनावश्यक है । नई प्रणाली इ वे बिल जैसी व्यवस्था को समाप्त किया जाए । जीएसटी में टैक्स की दर केवल 2 या अधिकतम 3 रखी जाए टैक्स की दर अन्य देशों की भांति 18% से अधिक कदापि न रखी जाए ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.