मजदूरों की सोच : अभी निकले, तो कम से कम जिंदा अपने गांव पहुंच जाएंगे , दिल्ली से पैदल ही चल दिए लोग

Tennews Network

0 77

नई दिल्ली :– कोरोना की वजह से जब से दिल्ली-एनसीआर में तमाम काम-धंधे ठप हुए हैं, तब से उन लोगों का यह हाल है, जो रोज मेहनत करके कमाते थे और शाम को चूल्हा जलाते थे। यूपी-बिहार से आए नौजवान और बड़ी उम्र के भी ऐसे तमाम लोगों के सामने अब जिंदगी के साथ-साथ रोजगार का संकट पैदा हो गया है। ऐसे में उन्हें फिलहाल घर लौटना ही बेहतर लग रह है।

सरकार के तमाम आश्वासनों के बावजूद न तो अपने मालिकों की तरफ से उन्हें कोई मदद मिल रही है और ना मकान मालिक या राशन देने वाले उन पर तरस खा रहे हैं। ऐसे में दिल्ली से अब बड़ी संख्या में लोगों का पलायन शुरू हो गया है और कोई साधन नहीं मिलने के बावजूद लोग पैदल ही अपने घरों के लिए निकल गए हैं।

वैसे तो यह पलायन चार-पांच दिन पहले से ही शुरू हो गया था, लेकिन मंगलवार की रात जब प्रधानमंत्री ने पूरे देश में 21 दिनों के कंप्लीट लॉकडाउन की घोषणा की, तो उसके बाद इन लोगों की उम्मीद ही टूट गई।

मंगलवार रात से ही बड़ी तादाद में लोग अपना बिस्तर बांधकर यूपी, बिहार, हरियाणा, राजस्थान और पंजाब में स्थित अपने घरों के लिए निकल पड़े। ऐसे लोगों का कहना था कि अगर यहां रहे, तो कोरोना से पहले भूख से मर जाएंगे। अभी निकलेंगे, तो कम से कम जिंदा अपने गांव तक तो पहुंच जाएंगे। जब हालात सुधर जाएंगे, तो वापस आ जाएंगे।

आपको बता दे कि दिल्ली के गाजीपुर बॉर्डर पर दिल्ली और यूपी पुलिस के कड़े पहरे के बीच 20-21 साल के कुछ लड़के सिर और कंधों पर बैग लादे पैदल चलते जा रहे थे। उनके चेहरे देखकर यह अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं था कि वह काफी दूर से पैदल चलते हुए आ रहे थे। किसी ने मास्क पहना था, तो किसी ने मुंह पर रूमाल बांधा हुआ था। सब आपस में थोड़ी दूरी बनाकर चल रहे थे। तभी बॉर्डर पर तैनात एक पुलिसकर्मी ने उन्हें रोक कर पूछा, कहां जा रहे हो?

उनमें से एक लड़के ने बताया कि वे लोग हापुड़ जा रहे हैं। पुलिसवाले ने पूछा कि इतनी दूर कैसे जाओगे? बस-ट्रेनें तो चल नहीं रही हैं और दूसरी गाड़ियां भी बंद है? लड़के ने कहा कि कोई साधन नहीं मिला, तो पैदल ही जाएंगे। पूछताछ में पता चला कि वे लोग गांधी नगर इलाके में दिहाड़ी पर मजदूरी करते थे, लेकिन लॉकडाउन से उन्हें कोई काम नहीं मिल पा रहा है। उनके पास जितने पैसे थे, वह भी अब खत्म होने को आए हैं, इसलिए वे घर लौट रहे हैं।

पुलिसवाले ने उन पर तरस खाते हुए पूछा कि साथ में कुछ खाने-पीने के लिए है या नहीं? इस पर लड़के और उसके साथियों ने अपने बैग पर हाथ रखते हुए कहा कि हां, खाने का सामान है। तभी एक लड़के ने बताया कि पीने का पानी खत्म हो गया है। इस पर पुलिसवाले ने अपने पास रखी कैन से उसकी बोतल में पानी भरा और सभी लड़कों को पानी पिलाया। इसके बाद उन्हें जाने दिया।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.