ग्रेटर नोएडा में टूटे प्रदूषण के सारे रिकाॅर्ड, देश का सबसे प्रदूषित शहर बना

ABHISHEK SHARMA

0 151

प्रदूषण के मामले में ग्रेटर नोएडा ने अब तक सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। गुरुवार को ग्रेटर नोएडा देश का सबसे प्रदूषित शहर रहा। शहर का वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 424 पहुंच गया है, जो डार्क रेड जोन से 24 अंक ऊपर है। वहीं, 406 एक्यूआई के साथ नोएडा भी रेड जोन में पहुंच गया है। नोएडा देश का पांचवां सबसे प्रदूषित शहर रहा।

ग्रेटर नोएडा के बाद फरीदाबाद देश के सबसे प्रदूषित शहरों में दूसरे नंबर पर है। जबकि गाजियाबाद तीसरे नंबर पर है। वहीं इस लिस्ट में नोएडा का नाम भी दर्ज है। गाजियाबाद का AQI 406 है जबकि नोएका 380 है।

बारिश के कारण 5 जनवरी को एक्यूआई 120 पहुंच गया था, लेकिन इसके बाद से प्रदूषण लगातार बढ़ रहा है। 9 जनवरी को एक्यूआई 360 पहुंच गया था। इसके बाद एक्यूआई में फिर सुधार हुआ, लेकिन मंगलवार और बुधवार को वायु गुणवत्ता सूचकांक अचानक फिर से बढ़ गया है।

गुरुवार को तो इसने चिंताजनक स्थिति में पहुंचा दिया। गुरुवार को पहले पायदान पर पहुंच गया। सुबह 6 बजे केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के बुलेटिन में ग्रेनो का एक्यूआई 424 रहा। जबकि, नोएडा का एक्यूआई 406 पहुंच गया है।

ग्रेटर नोएडा हरियाली के लिए जाना जाता है, लेकिन इस बार ठंड में अधिक वायु प्रदूषण शहर की पहचान बन गया है। पिछले साल अक्टूबर से अब तक ग्रेटर नोएडा अधिकतर समय देश का पहला या दूसरा सबसे प्रदूषित शहर रहा।

निर्माण कार्य, यातायात, कूड़ा जलाया जाना, उद्योग और धूल भरी सड़कें इसकी मुख्य वजह रहीं। साथ ही मौसम का भी असर रहा है। वहीं, यूपीपीसीबी और जिला प्रशासन ग्रेडेड रेस्पांस एक्शन प्लान का पालन कराने में भी असफल साबित रहा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.