बँगाली संस्कृति-सभ्यता की छाप ओढ़े विशाल स्वरूप लेने की ओर अग्रसर है ग्रेटर नोएडा का काली बाड़ी, भव्य भवन में विराजेंगी माँ काली

0 376

By-Ten News

 

ग्रेटर नॉएडा के सेक्टर पाई 1 स्थित काली बाड़ी शहर में एक अनूठे भव्य धर्मस्थल के रूप में विकसित होने की ओर अग्रसर है। धार्मिक बँगाली वास्तुकला के अनुरूप विगत कई वर्षों से बन रहे भव्य नवीन भवन के प्रथम चरण का काम तेजी से बढ़ रहा है और उम्मीद जताई जा रही है कि जल्द ही माँ काली का विग्रह पूर्व मंदिर से ला कर यहाँ स्थापित कर दिया जाएगा।

इस काली बाड़ी में यूं तो सारे ही बंगाली त्यौहार जैसे सरस्वती पूजा, दुर्गा पूजा इत्यादि पिछले कई सालों से बड़ी धूमधाम से मनाए जाते हैं पर दीवाली के समय आयोजित होने वाली काली पूजा का यहाँ विशेष महत्व है। यहाँ पूरे वर्ष यह काली आराधना का प्रमुख केंद्र भी है। 

सन 2009 में प्राधिकरण द्वारा काली बड़ी के नाम से ये ज़मीन शारदीय सांस्कृतिक समिति के नाम पर एलॉट कर दी गई थी तब से यहाँ पर धीरे धीरे करके भव्य मंदिर की रूपरेखा तैयार होने शुरू हो गई जो अब स्वरूप लेने लगी है।

यहाँ पर खासतौर पर दुर्गा पूजा के मौके पर रोजाना हजारों लोग इकठ्ठा होकर माँ दुर्गा की पूजस अर्चना करते हैं।

ग्रेटर नॉएडा में दुर्गा पूजा की शुरुआत शारदीय सांस्कृतिक समिति के द्वारा वर्ष 2001 से 2004 तक आरपीजी नेटकॉम के दफ्तर के कैंपस में की गई थी। उस दौरान लगभग 35 फैमिली इस पूजा में शामिल होती थी। 3 साल तक यहीं पे दुर्गा पूजा की गई जिसके बाद यहाँ लोगों की भीड़ बढ़ने लगी जिसे देखते हुए समिति दुर्गा पूजा को सेक्टर बीटा 1 में आयोजित करने लगे।

सेक्टर बीटा 1 के सामुदायिक केंद्र में पूजा शुरू करने के बाद लोगों का रुझान इस ओर बढ़ा और देखते ही देखते यहां लोगों की भीड़ बढ़ने लगी। यहां पर दुर्गा पूजा का आयोजन 2005 से 2008 तक किया गया। इसके बाद समिति के लोगों ने प्राधिकरण से दुर्गा पूजा के लिए अलग से ज़मीन एलॉट करने की सिफारिश की।

इसके बाद समिति ने बीटा 2 स्थित कासना थाने के पास के ग्राउंड में दुर्गा पूजा करने का निर्णय लिया। वर्ष 2009 में प्राधिकरण ने समिति को सेक्टर पाई 1 में दुर्गा पूजा के लिए काली बाड़ी के नाम से ज़मीन एलॉट की। इस दौरान खाली पड़े काली बाड़ी के प्लाट को दुर्गा पूजा के लिए तैयार करने में 3 वर्ष लग गए। 

2012 में काली बाड़ी में दुर्गा पूजा का शुभारंभ किया गया। तब से अब तक यही काली बाड़ी में दुर्गा पूजा का भव्य आयोजन किया जा रहा है। समिति द्वारा काली बाड़ी में काली माँ के मंदिर का निर्माण कराया जा रहा है। जो कि जल्द ही बनकर तैयार हो जायेगा।

शारदीय सांस्कृतिक समिति के जनरल सेक्रेटरी मनिन्द्र मंडल ने बताया कि समिति की ओर से यहाँ पर समय-समय पर काली बाड़ी में भंडारे का आयोजन कराया जाता है। वहीँ दुर्गा पूजा के दौरान प्रतिदिन यहाँ पर भंडारा कराया जाता है। उन्होंने बताया कि समिति कई प्रकार के सामाजिक कार्य करती है , जिसमे साल में 2 बार वे गरीबों को कपडे भी बांटते हैं। काली बाड़ी में 2 अक्टूबर को गांधी जयंती, 7 मई को रवीन्द्रनाथ टैगोर, 23 जनवरी को सुभाष जयंती के साथ साथ गणतंत्र व स्वतंत्र दिवस भी भव्य तरीके से मनाते हैं।

श्यामल रॉय इस समिति के प्रेजिडेंट के पद पर कार्यरत हैं तथा पूर्व सीबीआई निदेशक शांतनु सेन और पीके गुप्ता कालीबाड़ी में संरक्षक की भूमिका निभाते हैं ।

कालीबाड़ी की ग्रेटर नोयडा में स्थापना, उत्थान और विकास में शेखर सेन गुप्ता, असित सान्याल, श्यामल रॉय, अशोक सेन गुप्ता, मलय चक्रोवर्ती समेत अन्य लोगों की बेहद महत्वपूर्ण एवं मुख्य भूमिका रही है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.