सुमित भाटी के परिजनों ने लगाया पुलिस पर कौताही का आरोप , मुख्य आरोपियों पर कार्यवाही न होने से रोष

ROHIT SHARMA

120

ग्रेटर नॉएडा में बीते 5 महीने पहले थाना दादरी क्षेत्र के गांव बोड़ाकी में कुछ दबंग लोगों ने सुमित भाटी नाम के युवक को पीट-पीट कर मौत के घाट उतार दिया था | इस मामले में पुलिस ने अब तक पीड़ित परिवार से 2 लाख रुपए ले लिए है , लेकिन मुख्य आरोपी अभी भी पुलिस ने नहीं पकडे है ,ये हम नहीं कह रहे है मृतक सुमित के परिजनों का आरोप है। आपको बता दे कि बीते 8 अगस्त 2018 कुछ गांव के ही दबंगो ने इस कदर सुमित भाटी को पीटा कि उसकी इलाज के दौरान 10 दिसम्बर को मौत हो गई थी।

इस प्रकरण में परिजनों ने 7 लोगों के खिलाफ मुकद्दमा पंजीकृत कराया था जिसमें अभी तक मुख्य आरोपी नीलू और आंसू को गिरफ्तार नहीं किया है जबकि वो आए दिन गांव में घूमते रहते हैं, पीड़ित परिवार ने दबंगो के डर की बजह से गांव भी छोड़ दिया है। वही आरोपी लगातार फैसले का दबाब बना रहे हैं।

तस्वीरों में दिखने वाला ये सुमित भाटी है ,जिसकी गांव के कुछ दबंगो ने बीते 8 अगस्त 2018 को जिम से लौटते समय घेर लिया और पिछली कुछ रंजिश के चलते इस कदर पीटा कि वो लहूलुहान हो गया था ,जब इस बात की सूचना परिजनों को हुई तो किसी तरह परिजनों ने मौके पर पंहुचकर उसको वहां से छुड़ाया और इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया था। लेकिन दो दिन बाद 10 अगस्त को सुमित ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था।



जिसके बाद परिजनों ने दादरी थाने में 7 दबंगो के खिलाफ नाम दर्ज एफआईआर कराई थी। पुलिस ने अबतक 5 आरोपियों को पकड़कर जेल भेज दिया है, लेकिन परिजनों का कहना है कि हमसे पुलिस ने दलाल के हांथ 2 लाख रुपए भी खा लिए , लेकिन जो मुख्य आरोपी नीलू और आंसू है उनको गिरफ्तार नहीं किया है।

साथ ही उनका कहना है की वो दबंग लोग आए दिन मारने की धमकी देते रहते है , दबंगो के डर की बजह से गांव भी छोड़ दिया उसके बाबजूद वो लगातार हमपर फैसले का दबाब बना रहे हैं। वही आरोपियों के खिलाफ और भी बीते समय में कई घटनाओं को अंजाम दे चुके है लेकिन उनका पुलिस कुछ नहीं कर पाती है।

फ़िलहाल परिजनों की तरफ से लगाए आरोपों से पुलिस पर सवालिया निशान खड़े होते है | अब देखने वाली बात होगी कि इस मामले में पुलिस विभाग के वरिष्ठ अधिकारी क्या कार्यवाही करते है ? ये आने वाला समय ही बताएगा।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.