सड़क हादसे में पैर गंवाने वाली कराटे खिलाड़ी न्याय के लिए बैठी धरने पर

Abhishek Sharma

0 256
Noida (25/07/19) : डीटीसी बस से दो माह पहले हुए एक्सिडेंट में पैर गंवाने वाली कराटे प्लेयर लोरी व उसके परिजनों ने जिला प्रशासन पर वादाखिलाफी का आरोप लगाया है। आरोप है कि प्रशासन नेे नौकरी दिलाने का आश्वासन दिया था, लेकिन अभी तक अपना वादा पूरा नहीं किया हैं। लोरी के परिजनों ने न्याय की मांग को लेकर सिटी मजिस्ट्रेट के कार्यालय पर धरना शुरू कर दिया हैं।
परिजनों का कहना है कि जब तक जिला प्रशासन अपना वादा पूरा नहीं करता है, उस समय तक धरना जारी रहेगा। बता दें कि 22 मई को सेक्टर-62 स्थित एक स्कूल में लोरी बच्चों को जूडो कराटे की ट्रेनिंग देकर वह स्कूटी से घर लौट रही थीं। जब वह सेक्टर-12/22 रेड लाइट से आगे बृजवासी होटल के पास पहुंचीं। उसी दौरान तेज रफ्तार डीटीसी बस ने स्कूटी में पीछे से टक्कर मार दी।



हादसे के दौरान लोरी का एक पैर बस के टायर के नीचे आ गया। जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गई। जिसके बाद इलाज के दौरान छात्रा का पैर काटना पड़ा था। 17 वर्षीय लोरी अपने परिवार के साथ सेक्टर-10 में रहती हैं। वह सेक्टर-12 स्थित राजकीय इंटर कॉलेज में 12वीं की छात्रा हैं। कराटे में ब्लैक बेल्ट होने के साथ लोरी नेशनल और स्टेट लेवल पर कई मेडल हासिल कर चुकी हैं।
हादसेे से पहलेे लोरी पढ़ाई के साथ स्कूल व नोएडा स्टेडियम में बच्चों को कराटे की ट्रेनिंग देकर घर का खर्च चलाती थी। लोरी के पिता का कहना है कि जिला प्रशासन ने उस समय आर्थिक सहयता और नौकरी देने का वादा किया था। लेकिन दो माह बीत जाने के बाद अभी भी चक्कर काटने को मजबूर है। लोरी की मां नीलम का कहना है कि सिटी मजिस्ट्रेट ने उन्हें नौकरी दिलाने का लिखित अश्वासन दिया था। प्रशासन की तरफ से सहायता के नाम पर व्हील चेयर दी है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.