29 सितम्बर को भारतीय सेना ने नियंत्रण रेखा पार कर सर्जिकल आघात

By Shri Shravan Kumar Sharma

29 सितम्बर को भारतीय सेना ने नियंत्रण रेखा पार कर सर्जिकल आघात किया ,भारत के लोगों में प्रसन्नता की लहर फैल गयी .पकिस्तान को लेकर विभिन्न सरकारों द्वारा अपनायी गयी नितियों से जनमानस निराश और खिन्न था .भारत सरकार कूटनीतिक मोर्चे पर भी पाकिस्तान को आईसोलेट करने में कामयाब रही है .भारत की यह सफलता और सेना की सफलता और देशवासियों का गर्व कुछ नेता और कथित पत्रकारों को सहन नहीं हो सका और उन्होने अपनी आदत के अनुसार कुछ विवाद राग छेड़ ही डाला .बेशर्मों ने यह भी नहीं सोचा कि यह देश की सुरक्षा और सम्मान का मामला है और इसे औछी राजनीति से दूर रखना चाहिये .इन विवाद -प्रिय लोगों में अरविन्द केजरीवाल ,राहुल गांधी और संजय निरूपम का नाम प्रमुख है .वैसे मीडिया को इन लोगों को इगनोर कर देना चाहिये था ,पर मीड़ीया को भी विवाद और कलह बेहद पसंद है .इनमें लूटियन ज़ोन के ऐसे कददू शामिल हैं ,जिनहे भारत की किरकिरी और कमज़ोरी वाली ईमेज बहुत पसंद है और युद्ध का नाम सुनकर इन्हे पसीना आने लगता है .इनकी बदोलत ही भारत की आज दुनिया में यह ईमेज बनी है .ये ही कशमीर का मामला यू एनो में ले कर गये और इनहोंने ही भारतीय सेना की 1971 की उपलब्धियां शिमला समझौता कर गंवां दी .इन धूर्तों से बस सावधान रहना है और इनको भाव देना बन्द करना है .जय हिन्द .

Leave A Reply

Your email address will not be published.