पुलिस ने किया लोन दिलाने के नाम पर फर्जी कंपनी चलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़

ABHISHEK SHARMA/ JITENDER PAL- TEN NEWS

0 188

(23/06/2019) जिले में फर्जी कॉल सेंटरों का जाल बिछा हुआ है, नोएडा पुलिस अब तक न जाने कितने फर्जी कॉल सेंटरों पर कार्रवाई कर चुकी है। उसके बाद भी लोग बाज नहीं आ रहे हैं और लगातार फर्जी कॉल सेंटर के नाम पर लोगों को ठगने का कार्य कर रहे हैं। नोएडा पुलिस ने एक फर्जी फाइनेंस कंपनी चलाने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। फर्जी फाइनेंस कंपनी चलाने वाले गिरोह के लोग लोन दिलाने के नाम पर लोगों के साथ ठगी करते थे।



यह कंपनी नोएडा के सेक्टर 63 में संचालित की जा रही थी और करीब 1 साल से लोगों को अपना शिकार बना रहे थे। थाना फेस 3 पुलिस को शिकायत मिली थी कि एक कंपनी ने पीड़ित के साथ लोन दिलाने के नाम पर ठगी की है। पीड़ित की शिकायत पर पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए मामले की जांच की और इसमें 9 लोगों को गिरफ्तार किया है।

हालांकि इस गिरोह के मुख्य सरगना व कंपनी के मालिक राजा उर्फ नजर नवाज की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है पुलिस का कहना है कि उसकी गिरफ्तारी के लिए लगातार दबिश दी जा रही है और जल्द ही वह पुलिस की गिरफ्त में होगा। गिरफ्तार किए गए अभियुक्त फैजल, अशद, समीर , बिलाल, मोहम्मद जैनुल , आरिफ, अजीम , अमन व आकिल हैं। वहीं दो लोग ऐसे भी थे जो एक दिन पहले ही यहाँ पर नौकरी के लिए इंटरव्यू देने आए थे, पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार नहीं किया है।

गौतम बुध नगर के एसएसपी वैभव कृष्ण ने आज प्रेस वार्ता करते हुए जानकारी दी कि ये लोग लोन दिलाने के नाम पर ठगी करते थे, अब तक अलग-अलग लोगों से 20 लाख रुपए की ठगी को अंजाम दे चुके हैं। सेक्टर 63 के प्लॉट नंबर ए-182 में ये लोग नवजीवन इन्फो सॉल्यूशंस के नाम से फर्जी कंपनी चलाते थे और आम जनता से लोन कराने के नाम पर एक लाख से 90 लाख तक के लिए 3500 रुपए व 90 लाख से 1 करोड रुपए का लोन कराने के लिए ₹4130 फाइल चार्ज के रूप में व लोन पास कराने के नाम पर प्रोसेसिंग फीस के रूप में ₹12430 वसूलते थे।

उन्होंने बताया कि इन लोगों ने आज तक किसी का कोई लोन पास नहीं कराया है। गिरफ्तार किए गए अभियुक्तों के पास से ₹90 हजार नगद, विभिन्न कंपनियों के 19 मोबाइल, दो गाड़ी, भारी मात्रा में कंपनी के लोन सेंशन फॉर्म व लेटर हेड, स्टांप फाइलिंग आदि बरामद किए हैं। इन लोगों को कोर्ट में पेश कर जेल भेजने की तैयारी की जा रही है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.