ग्रेटर नोएडा : प्रदेश सरकार के 3 वर्षों का दिया लेखा-जोखा, चहुमुखी विकास का किया दावा

Pravendra Kumar Singh / Photo & Video By Baidyanath Halder

0 134

Greater Noida (19/03/2020) : देश में कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच सबका साथ सबका विकास के नारे को धरातल पर उतारने का दावा करते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने अपनी सफल योजनाओं को देखते हुए 3 वर्ष पूर्ण होने पर उपलब्धियों को लेकर उत्तर प्रदेश स्वास्थ मंत्री जय प्रताप सिंह ने गौतबुधनगर के सांसद डॉ महेश शर्मा, नोएडा विधायक पंकज सिंह, जेवर विधायक ठाकुर धीरेन्द्र सिंह, दादरी  विधायक तेजपाल नागर, डीएम बी एन सिंह एवं मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार सिंह की  उपस्थिति में सूरजपुर जिलाधिकारी कार्यालय पर बैठक बुलाई।

बैठक के दौरान स्वास्थ मंत्री ने कहा कि 19 मार्च 2017 के बाद व्यवस्था परिवर्तन का लक्ष्य लेकर आगे बढे और सबसे पहले उत्तर प्रदेश से गुंडाराज और भू माफिया राज और हर तरीके के गैर कानूनी धंधों को समाप्त या लगाम लगाने का काम किया है। महिला सुरक्षा के लिए एंटी रोमियो स्क्वाड भी बनाये गए थे। केंद्र सरकार और उत्तर प्रदेश सरकार के बीच समन्वय से सभी तरह की योजनाओं का लाभ हर गरीब , हर किसान ,हर वर्ग के व्यक्ति को मिल रहा है।

मंत्री जय प्रताप सिंह ने बताया कि उत्तर प्रदेश संकल्प पत्र की योजनाओं को पूरा किया और  केंद्र की सभी योजनाओं को भी धरातल पर लागू कराया गया है। जैसे कौशल विकास योजना और मनरेगा का दायरा बढ़ाने से 2014 -15  से अब तक प्रति व्यक्ति आय बढ़ चुकी है।

उसके अलावा भी उत्तर प्रदेश सरकार की कई नयी योजनाओं का भी जिक्र किया जो अलग से चल रही हैं और धरातल पर उनकी मॉनिटरिंग भी हो रही है। जिसका उन्होंने जिक्र भी किया। जिसमें शादी अनुदान योजना के अंतर्गत विगत तीन वर्षों में 400 कन्याओं एवं मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत बीते 3 वर्षों में 122 जोड़ों का सामूहिक विवाह संपन्न कराया गया है।

वहीं महिला पेंशन योजना के अंतर्गत अभी तक 4.4095 करोड़ रुपये दिए गए हैं, इसके साथ पिछले तीन वर्षों में 11570 नए लाभार्थियों को और दिव्यंजन पैंशन योजना में 5100 लाभार्थियों  को जोड़ा गया है। खाद्य सुरक्षा योजना में इ-पास मशीन का जिक्र किया एवं उज्ज्वला योजना की बुलंदी का जिक्र किया जिसमे अभी तक 33461 फ्री  गैस कनेक्शन दिए जा चुके है और गरीब की राशन प्रणाली में बदलाव किया है।

आगे स्वास्थ मंत्री ने किसान की उपज की सही खरीद पर सवेदनशीलता दिखाते हुए कहा , गन्ना  किसानों की 57 बंद पड़ी मिलों को उन्होंने फिर से खुलवाया है और गन्ना किसानो को उनका 2019 तक का 91% भुगतान कर चुके हैं।

उन्होंने एक जनपद-एक उत्पाद की योजना के बारे में भी बताया, साथ ही जेवर एयरपोर्ट के प्रभावित किसानों को 3066.86 करोड वितरित कर दिये हैं और विकास के लिए सम्बंधित कंपनियों को ठेके दिए गए हैं जोकि 2022 तक एयरपोर्ट को विकसित कर सकती हैं।

बीते तीन वर्षों में विकास के नाम पर गंगा एक्सप्रेसवे ,पूर्वांचल एक्सप्रेसवे, ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस वे का भी जिक्र किया। पश्चिमी कॉरिडोर मुंबई से दिल्ली तक पूर्वी करिडोर लुधियाना से कलकत्ता तक जिसके लिए राज्य सरकार  ने मंजूरी व राशि दे दी है और प्रयागराज से चित्रकूट के कॉरिडोर का प्रोजेक्ट प्रक्रिया में है।

मंत्री ने आगे बताया कि उ.प्र. सरकार स्मार्ट ग्राम योजना के तहत 29 गॉव को चुना है जिनमे से अभी प्रथम चरण में 5 ग्रामों को चुना गया है। प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत 1083 आवासों का निर्माण हो चुका है और युवाओं के लिए अब तक 38 रोज़गार मेले का आयोजन हो चुका है। आयुष्मान भारत के अंतर्गत 34428 लोगों के गोल्डन कार्ड बनाये गए हैं।

उन्होंने आगे बताया , योगी जी की   तरफ से आरोग्य मेला भी चला। जिसमे सामुदायिक केंद्रों पर मुफ्त जांच शिविर भी लगाए गए जिससे पता लगाया जा सके कितने लोग किस तरह की बीमारी से ग्रसित चल रहे हैं। ताकि उनका डेटा मिल सके। अटल विद्यालय योजना मजदूर बीमा  योजना  तथा शिक्षा के क्षेत्र में प्रशिक्षित अध्यापन और बच्चों को फ्री जूते मोजे कपडे देने की व्यवस्था की जा रही है। खिलाडियों के लिए फिट इंडिया मूवमेंट चल रहा है जिसके अंतर्गत अकेले नोएडा में ही 3 नए इंडोर स्पोर्ट्स स्टेडियम बन रहे हैं।

राज्य में कानून व्यवस्थाठीक होने की वजह से तीन वर्षों में दो इन्वेस्टर सम्मिट हो चुके हैं जिसमें पिछली सम्मिट में 86000 करोड रुपये का इन्वेस्टमेंट का एम.ओ.यू साइन हुआ है।

स्वास्थ मंत्री ने कोरोना पर कहा कि वे स्वयं नेपाल और उत्तर प्रदेश के बॉर्डर पर गए और 27 जनवरी से ही अलर्ट जारी है। सभी बॉर्डर्स पर स्क्रीनिंग जारी है और इस समय कुल उत्तर प्रदेश में कोरोना से संक्रमित 17 मरीज हैं , जिनका उपचार चल रहा है। बाहर से आने वालों में लखनऊ और वाराणसी एयरपोर्ट्स को मिला करके 18000 से ऊपर लोगों की स्क्रीनिंग हो चुकी है।

जरूरत पड़ने पर सेना के डॉक्टर्स की जरूरत पड़ी तो उनकी भी मदद हम लेंगे साथ ही आई.एम.ए की टीम से भी हमारी बात हो चुकी है। मरीजों की बैक्ट्रेक्किंग करके सैंपल लेते रहते हैं। और साथ ही निजी -सरकारी बायोमेट्रिक मशीन के सवाल पर मंत्री जी ने कहा सरकार की ओर से इस पर निर्देश जारी कर दिए गए हैं।

कोरोना वायरस के ऊपर मश्वरा देते हुए स्वास्थ मंत्री ने हाथ धोने और किसी मरीज़ से 1 मीटर  की दूरी बनाये रखने को कहा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.