बिमटेक स्थापना दिवस महोत्सव के अंतर्गत हुआ “पगड़ी संभाल जट्टा” का मंचन, छात्र- छात्राओं ने सराहा भगत सिंह का जीवन चित्रण

189

Vishal Malhotra / (Photo/Video – Baidyanath Halder)

 

ग्रेटर नोएडा में कल 30 सितंबर को बीमटेक में चल रहे 31वें स्थापना दिवस महोत्सव के अंतर्गत भारत के लोकप्रिय थिएटर ग्रुप,”अस्मिता थिएटर ग्रुप” कि प्रस्तुति “पगड़ी संभाल जट्टा” का मंचन किया गया। जिसने दर्शकों को पुरे समय अपने उत्कृष्ट मंचन से सभी दर्शकों को बाँधे रखा| 

आपको बता दें कि अस्मिता ग्रुप का ये नाटक शहीदे आज़म भगतसिंह, सुखदेव, राजगुरु, चंद्रशेखर आज़ाद और उनके साथियों के विचारों, संघर्ष, बलिदान व योगदान पर आधारित है |

सिर्फ यही नहीं, नाटक में भगत सिंह के जीवन के कुछ ऐसे किस्सों का भी ज़िक्र किया जाता है जिनसे शायद काफी भारतवासी रूबरू भी नहीं होंगे |

नाटक में भगत सिंह का क्रांतिकारी बनना, साइमन कॉमिशन का विरोध,भगत सिंह के आत्मसमर्पण समेत चंद्रशेखर आज़ाद ,राजगुरु और सुखदेव के जीवन के उन पहलुओं को दर्शाया गया है जिसकी वजह से भारतवर्ष अनंत काल तक उन शहीदों को भूल नहीं पाएगा ।

यह नाटक देखने के लिए अनेक विशिष्ट अतिथियों समेत जेवर विधायक ठाकुर धीरेन्द्र सिंह भी मौजूद थे। नाटक के पश्चात जब इस विषय को लेकर उनसे बात की तो उन्होंने कहा, “हमारे देश में आज जिस रफ्तार से कला के प्रदर्शन को प्रोत्साहित किया जा रहा है,मुझे ये देखकर बहुत खुशी होती है। हमारे समय में भी कला का महत्व हमनें देखा है और आज भी कला के महत्व को लेकर मुझे कोई कमी नहीं नज़र आती।”

नाटक के निर्देशक अरविंद गौड़ नें नाटक को इतनी खूबसूरती से प्रस्तुत किया कि संगीत और नाटक से जुड़ी भावनाओं का मेल अत्यंत सरल और लुभावने अंदाज में दर्शकों के सामने नजर आया।

अस्मिता ग्रुप को कल क्षेत्र में 25 वर्ष पूरे हो चुके हैं और अरविंद गौड़ नें थिएटर की दुनिया में पिछले 25 सालों में आए बदलावों को कुछ इस तरह बताया, 

“थिएटर बहुत दिल से जुड़े रहने वाली कला है ।एक थिएटर कलाकार अपने जीवन में सिर्फ एक्टिंग नहीं सीखता बल्कि जीवन व्यतीत करना सीखता है । पहले थिएटर की पहुंच इतनी नहीं थी जितनी आज के समय में देखने को मिलती है।आज थिएटर महज़ एक्टिंग स्कूल ही नहीं बल्कि लोगों के लिए रोजगार भी है।”

नाटक का मंचन बिमटेक के एक्टिवटी प्लाजा में किया गया जहाँ इस दौरन बिमटेक के छात्र – छात्राओं के अलावा बड़ी संख्या में शिक्षक एवं अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे।

बिम्टेक के छात्रों ने भी नाटक भी नाटक की भूरी- भूरी प्रशंशा की और कहा की इस नाटक के दौरान उन्हें आजादी के आंदोलन से जुड़े क्रांतिकारियों के विषय में अनेक नयी बातें जानने को मिली और बेहद सरल तरीके से किये गए मंचन से कला के विषय में अधिक जानकारी प्राप्त हुई ।

आज भी इस सात दिवसीय स्थापना दिवस महोत्सव के अंतर्गत अस्मिता थिएटर ग्रुप द्वारा एक और बहुचर्चित नाटक “गाँधी @ गोडसे ” का मंचन किया जाएगा। गांधी और गोडसे के विचारों की भिन्नता पर प्रकाश डालने वाला यह नाटक देश के अनेक हिस्सों में बेहद सराहा जा चूका है।

Pagdi Sambhal Jatta @BIMTECH 31st Foundation Day : Photo Highlights

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.