दिल्ली में आज से खुल सकेंगी रेहड़ी-पटरी वाली दुकानें, सीएम केजरीवाल ने जॉब पोर्टल भी किया लॉन्च

ROHIT SHARMA

0 88

नई दिल्ली :— कोरोना वायरस के कारण बड़ी संख्या में लोग बेरोजगार हो गए हैं , कारोबार चौपट हो गए हैं , इस दिशा में राहत के लिए दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने एक बड़ी पहल की है | दिल्ली सरकार ने एक ऐसा जॉब पोर्टल लॉन्च किया है, जिस पर रोजगार देने वाली कंपनियां या उद्योग और बेरोजगारी की मार झेल रहे लोग जानकारी पा सकेंगे | वहीं, रेहड़ी-पटरी वाले भी अब दुकान खोल सकेंगे |

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस बारे में विस्तार से जानकारी दी , उन्होंने बताया कि देश और दुनिया में कोरोना के मामले बढ़ते चले जा रहे हैं और दिल्ली में कम हो रहे हैं , लेकिन हमें सावधानी बरतनी होगी और अब हमें अर्थव्यवस्था पर ध्यान देना होगा |

सीएम केजरीवाल ने कहा सभी व्यापारियों , प्रोफेशनल , मार्केट एसोसिएशन, एनजीओ , मीडिया , सरकारी संस्थाओं से अपील करता हूं कि अब मिलकर दिल्ली की अर्थव्यवस्था को सुधारने की तरफ आगे बढ़ते हैं. कोरोना के दौरान भी हमने इस बात की वकालत की कि लॉकडाउन जल्द से जल्द खोलना चाहिए. केस बढ़ने के बावजूद भी हमने लॉकडाउन नहीं किया. आज पूरे देश में दोबारा लॉकडाउन सुनने को मिल रहा है |

केजरीवाल ने बताया कि हम कंस्ट्रक्शन का काम शुरू कराना चाहते हैं , लेकिन लोग नहीं मिल रहे हैं |  प्रोफेशनल लोगों को कामगार नहीं मिल रहा है, उद्योग वालों को लोग नहीं मिल रहे हैं, दूसरी तरफ जिन लोगों की नौकरी गई है उन लोगों को काम नहीं मिल रहा है. केजरीवाल ने कहा कि इन दोनों के बीच तालमेल बैठाने के लिए आज दिल्ली सरकार एक पोर्टल शुरू करने जा रही है. इस पोर्टल का नाम jobs.delhi.gov.in है |

सीएम केजरीवाल ने बताया कि जिन जिन लोगों को नौकरी चाहिए वह अपनी सारी जानकारी इस वेबसाइट पर डाल दें. इसमें यह भी जानकारी दें कि आपको किस तरह की नौकरी चाहिए. एक तरह से रोजगार बाजार है. यहां पर नौकरी देने वाले और नौकरी लेने वाले दोनों आएंगे. इससे दिल्ली में सब को फायदा होगा. बिजनेस इंडस्ट्री. प्रोफेशनल और जो नौकरी लेना चाहते हैं उनको फायदा होगा |

सीएम केजरीवाल ने ये भी बताया कि रेहड़ी-पटरी वालों को अभी तक दिल्ली में इजाजत नहीं दी जा रही थी, लेकिन अब दिल्ली में रेहड़ी पटरी वालों को काम करने की इजाजत होगी |

Leave A Reply

Your email address will not be published.