डॉ महेश शर्मा की मजबूत दावेदारी के बीच लोकसभा चुनाव 2019 के लिए गौतम बुद्ध नगर में सरगर्मियां तेज

Ten News Network

185

ग्रेटर नॉएडा : (04/04/19) लोकसभा चुनाव 2019 के लिए मतदान का समय जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है वैसे-वैसे गौतम बुद्ध नगर में चुनावी सरगर्मियां तेजी से बढ़ती जा रही हैं।

दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में नोएडा- ग्रेटर नोएडा सरीखे शहरों को समाहित करके बनी हुई गौतमबुद्धनगर लोकसभा सीट काफी महत्त्वपूर्ण सीट मानी जाती है। उत्तर प्रदेश जैसे राज्य के सबसे प्रमुख औद्योगिक क्षेत्र के रूप में विकसित हो जाने के कारण लगभग पच्चीस लाख आबादी वाला यह क्षेत्र हर राजनीतिक दल की प्राथमिकता में रहता है। नोएडा के शहरी क्षेत्र की ज्यादातर आबादी प्रवासी पढ़े-लिखे प्रोफेशनल्स की है और ऐसा माना जाता है उनके बीच महेश शर्मा की साख काफी बेहतर है।

भारतीय जनता पार्टी के बड़े नेता और केंद्रीय मंत्री डॉ. महेश शर्मा यहां से मौजूदा सांसद हैं और मजबूती से 2019 में दुबारा निर्वाचन के लिए दावा ठोक रहे हैं।

नोएडा क्षेत्र में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के द्वारा किये गए कामकाज, इस क्षेत्र में आई मेट्रो सुविधा, कई बड़ी फैक्ट्रियों की शुरुआत उनके द्वारा चुनाव के दौरान मतदाताओं के सामने बड़ी उपलब्धि के रूप में पेश की जा रही है।



डॉ शर्मा ने मेडिकल साइंसेज यूनिवर्सिटी कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय और सफदरजंग अस्पताल, नई दिल्ली से एमबीबीएस किया था और शुरआती दौर से ही नोयडा आ कर बस गए थे।वर्ष 1983 में सेक्टरर-19 नोएडा में एक छोटे-से क्लीनिक से सामान्य चिकित्स्क के रूप में कैरियर की शुरूआत करने से लेकर केंद्रीय मंत्री बनने का सफ़र डॉ महेश शर्मा ने अपनी बेदाग छवि और मिलनसार व्यक्तित्व के कारण सहजता से पूरा किया।डॉ शर्मा के पिता का नाम कैलाश चंद शर्मा और माता का नाम ललिता देवी है और इसीलिये उन्होंने अपने पिता के नाम पर ही अस्पताल की शुरआत की थी |भाजपा नेता महेश शर्मा पेशे से डाक्टर हैं और इसी क्षेत्र में उनका नामी अस्पताल वरिष्ठ डॉक्टरों और अत्यधुनिक उपकरणों के साथ लोगों को वर्षों से मेडिकल सुविधा उपलब्ध करा रहा है।समाज की बढ़ती चिकित्साी जरूरतों को महसूस करते हुए शीघ्र ही नोएडा, ग्रेटर नोएडा, बेहरोड़ (राजस्था न), दिल्ली और हरिद्वार में सुपर/मल्टी् स्पेयशियलिटी अस्पतालों की एक श्रृंखला को स्थापित किया और बढ़ाते गए।

सितंबर 30, 1959 में मनेठी, जिला- अलवर, राजस्थान में जन्मे महेश शर्मा ने नोयडा को ही अपनी मुख्य कार्यस्थली बनाया और नोयडा के शुरुआती दिनों से ही शहर के साथ साथ में सामाजिक कद और राजनीतिक ओहदे में बढ़ते चले गए।

डॉ महेश शर्मा के लिए कहा जाता है की वो बाल्य काल से राष्ट्रींय स्वएयं सेवकसंघ (आरएसएस) के समर्पित अनुयायी रहे हैं और भाजपा से उनका जुड़ाव विचारधारा और सामाजिक उत्थान में रुचि के कारण हुआ।

छात्र जीवन के दौरान एबीवीपी के साथ सक्रियता से जुड़े रहे और उसके बाद एक सक्रिय सदस्य के रूप में भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए।

स्थानीय लोगों का कहना है की इस अस्पताल पर डॉं. महेश शर्मा मरीजों के साथ-साथ लोगों से भी हमेशा मिलते हैं और उनकी सहज उपलब्धता, मिलनसारिता और सादगीपूर्ण व्यवहार उनकी सबसे बड़ी ताकत है।

गौतम बुद्ध नगर में आयोजित लोकसभा/विधानसभा के विगत आठ चुनावों में सक्रिय रूप से भाग लिया और जब उम्मीदवार नहीं भी थे तो बढ़ चढ़ कर चुनाव का प्रबंध किया।

15वीं लोकसभा आम चुनाव, 2009 में मौजूदा सांसद पहली दफा चुनाव लड़े परंतु लगभग 15,000 मतों से हार गए। इसके बाद मार्च, 2012 में नोएडा विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र, उत्तर प्रदेश से विधायक (एमएलए) के रूप में पहली बार निर्वाचित हुए और विधानसभा पहुंचे।

इसी बीच पार्टी ने उनपर विस्वास जताते हुए मई, 2014 में गौतम बुद्ध नगर संसदीय निर्वाचन क्षेत्र से सांसद का टिकट दिया जिसमें वो बड़े अंतर के साथ सांसद के रूप में निर्वाचित हुए। यह पहली बार हुआ है कि गौतम बुद्धनगर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र से कोई उम्मीदवार इसके तहत आने वाले सभी पांच विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों में विजयी हुआ हो।

इस बार डॉ शर्मा का मुकाबला सपा बसपा गठबंधन के उम्मीदवार सतबीर नागर और कांग्रेस के उम्मीदवार डा. अरविंद सिंह से है। जहाँ सपा बसपा अपने वैचारिक कैडर और जातीय समीकरण के अनुसार जीत की उम्मीद लगाए बैठी हैं वही कांग्रेस के डॉ अरविंद सिंह पार्टी मैनिफेस्टो को लोगों तक पहुंचा के वोट बटोरने में लगे हैं।

यहाँ के सांसद के रूप में अपने पहले ही कार्यकाल में महेश शर्मा ने क्षेत्र वासियों के लिए कई सौगातों को लाने का प्रयास किया। चाहे वो जेवर एयरपोर्ट हो, बोटानिकल गार्डन का उत्थान और पुनर्निर्माण, नोयडा ग्रेटर नोयडा मेट्रो समेत अनेकों परियोजनाओं के साथ डॉ शर्मा अब मतदातओं को रिझाने के लिए मैदान में हैं।

करप्शन के लिए जाने जाने वाले इस शहर में डॉ शर्मा ने बदलाव लाने के लिए कई महत्वपूर्ण प्रयास किये जिनका नतीजा भी कई जांचों औऱ विभागों की कार्यप्रणाली में दिखा।

आज एक केंद्रीय मंत्री के रूप में वो समाज के पुनर्निर्माण और नोएडा – ग्रेटर नोएडा क्षेत्र के लिए सजग उम्मीदवार के रूप में नजर आते हैं।

लगातार कई गाँवों, शहरों के लोगों से मिलते जुलते और उनकी समस्याओं का समाधान करने में प्रयासरत रहने के कारण डॉ शर्मा की उम्मीदवारी को क्षेत्र में बेहद शशक्त माना जा रहा है। अब ये तो मई 23 को ही स्पष्ट होगा कि लोगों के मन में क्या और और वो किसके सर पर विजय का ताज पहनाएंगे।

Loading...

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.