ग्रेटर नोएडा में लॉक डाउन के बीच 5 लोगों की पालनहार बनी महिला ने पेश की मानवता की अदभुत मिसाल

Abhishek Sharma

0 183

Greater Noida (30/03/2020) : जैसे जैसे दिन बढ़ रहे हैं, वैसे-वैसे देश में कोरोना वायरस के मामलों में भी वृद्धि हो रही हैं। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर पूरा देश 21 दिन के लिए लॉक डाउन है। जिसके चलते गरीबों को सबसे अधिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं जो गरीबों के लिए मसीहा बनकर सामने आ रहे हैं। कुछ लोग ऐसे भी हैं, जो गरीबों असहाय हो को सहारा दे रहे हैं।

ऐसा ही कुछ देखने को मिला ग्रेटर नोएडा के डेल्टा टू सेक्टर में, जहां एक महिला ने अपने घर पर 5 लोगों को सहारा दिया है। सभी लोगों के खाने व रहने की अच्छे से व्यवस्था की गई है। इन 5 लोगों में एक गर्भवती महिला एवं 3 साल की मासूम बच्ची भी शामिल है।

दरअसल ग्रेटर नोएडा के सेक्टर डेल्टा टू में बीना भाटी अपने परिवार के साथ रहती हैं। उनके तीन बच्चे हैं और पति वकील हैं। जनता कर्फ्यू से 1 दिन पहले 21 मार्च को किसी के जरिए उन्हें पता चला कि 5 मजदूर हैं, जो काम की तलाश में भटक रहे हैं, रहने की जगह नहीं है और खाने के लिए सामान नहीं हैं। इनमें एक गर्भवती महिला शामिल है, जिसकी 3 साल की बच्ची भी है। बीना भाटी ने गर्भवती महिला को प्रसव पीड़ा होने पर डॉक्टर के पास लेकर गई और महिला की जांच कराई।

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए उन्होंने मानवता दिखाते हुए 3 युवकों सहित 5 लोगों को अपने घर पर रखा है, वही उनके खाने की भी व्यवस्था कर रही हैं। बीना भाटी का कहना है कि देश में जहां एक तरफ लॉक डाउन के चलते मारामारी का माहौल है। ऐसे में जो लोग सक्षम हैं , उनकी जिम्मेदारी बनती है कि ऐसे वक्त में सामने आए और जितना हो सके लोगों की मदद करें।

उनका कहना है कि उन्होंने भी अपनी जिम्मेदारी मानते हुए 5 लोगों को अपने घर में शरण दी है। बीना भाटी ने आगे बताया कि इन लोगों के साथ में एक 3 साल की मासूम बच्ची भी है, जिससे उन्हें अपने बच्चे की तरह ही बेहद लगाव हो गया है।

बता दें कि महिला के 18 वर्षीय बेटे को बुखार आ गया था, इसके बाद कोरोना की जांच हुई। हालांकि रिपोर्ट नेगेटिव आई। महिला का कहना है कि जब तक कोरोना वायरस का प्रकोप रहेगा तब तक वे इन लोगों को अपने घर में रखेंगे और खाने-पीने की भी सारी व्यवस्था खुद करेंगी।

उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि मानवता दिखाने का यही समय है। जरूरतमंदों की मदद इस लड़ाई से लड़ने का दूसरा तरीका है। पहला तरीका यह है कि जिन लोगों के पास घर है वे घरों में ही रहे और कोरोना की चेन को तोड़े।

Leave A Reply

Your email address will not be published.