प्राइवेट स्कूलों की मनमानी के ख़िलाफ़ जिला प्रशासन की कार्यवाही , एक स्कूल पर 5 लाख तो दूसरे पर 1 लाख का जुर्माना

ROHIT SHARMA

0 240

नोएडा-ग्रेटर नोएडा में प्राइवेट स्कूलों की मनमानी है लगातार जारी है , स्कूल द्वारा लगातार मनमानी फीस वृद्धि के चलते अभिवावक सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन करने को मजबूर हैं, ऐसे में जिले की फ़ीस रेगुलेटरी कमेटी के अध्यक्ष और जिले के डीएम बीएन सिंह ने स्कूल प्रशासन और अभिभावकों के बीच एक मीटिंग की , फीस बढ़ाने के नियमों की जानकारी देते हुए दिशा निर्देश दिए, वही नियमों को नहीं मानने वाले कुछ स्कूलों पर जुर्माने की कार्यवाही भी की गई है |



नोएडा के प्राइवेट स्कूलों की मनमानी के बाद अब नोएडा के जिला अधिकारी और फीस रेगुलेटरी कमेटी के अध्यक्ष बीएन सिंह ने अपने कैंप कार्यालय में जिले के तमाम स्कूल प्रशासन और अभिभावकों के साथ एक मीटिंग बुलाई |

जिसमें स्कूल प्रशासन की मनमानी और पैरंट्स को आ रही समस्या के निदान को लेकर चर्चा की गई,जिलाधिकारी बीएन सिंह ने बताया कि अगर किसी पेरेंट्स को कोई दिक्कत है तो वह पहले स्कूल प्रशासन से शिकायत करें | साथ ही उनका कहना है की वहां से कार्यवाही ना होने के बाद फ़ीस रेगुलेटरी कमेटी से शिकायत की जा सकती है ,अगर इसके बाद भी स्कूल प्रशासन कोई कदम नहीं उठाता है तो उस पर जुर्माने की कार्यवाही की जाएगी |

साथ ही कमेटी कानूनी कार्रवाई भी कर सकती है ,जिलाधिकारी ने बताया कि प्राइवेट स्कूल एपीजे द्वारा बढ़ी हुई फीस वापस नहीं लिए जाने के बाद आज कमेटी द्वारा उस पर पांच लाख का जुर्माना लगाया ,कैंब्रिज स्कूल पर एक लाख का जुर्माना लगाया गया है ,फिलहाल करीब 10 स्कूल ऐसे हैं जिनकी शिकायत जिला प्रशासन से की गई है |

डीएम नोएडा का कहना है कि अगर कोई भी स्कूल बड़ी हुई चीज को वापस नहीं लेता तो उसके खिलाफ जुर्माने के अलावा कानूनी कार्यवाही भी की जाएगी ,वही पेरेंट्स से भी अपील की गई कि वह शांतिपूर्वक तरीके से अपनी बात रखें और उनकी हर समस्या का समाधान जिला प्रशासन द्वारा स्थापित की गई | इस रेगुलेटरी कमेटी द्वारा की जाएगी,वही कोई भी स्कूल ड्रेस या क़िताबों के लिए परेंट्स को बाध्य नहीं कर सकता।

जिलाधिकारी के साथ मीटिंग करने के बाद लौटे अभिभावकों से जब हमारी बात हुई उनका कहना है कि इससे पहले भी कई बार इस तरह की मीटिंग हो चुकी है ,लेकिन प्राइवेट स्कूलों की मनमानी बदस्तूर जारी है |

जहां जिला प्रशासन उन पर कार्यवाही करने की बात तो कह रहा है लेकिन स्कूल प्रशासन भी फीस वृद्धि को वापस लेने को राजी नहीं है, ऐसे में अभिभावकों को समझ में नहीं आ रहा कि आखिर वह कौन सा कदम उठाए हैं जिनसे उनकी समस्या दूर हो सके।

Leave A Reply

Your email address will not be published.