- Advertisement -

स्कूल फीस में छूट के बावजूद प्रबंधन पर भारी रियायत के लिए बनाया जा रहा दबाव, उगाही के लिए फैलाई जा रही भ्रामक सूचना

Ten News Network

0 692

उर्सुलाइन कान्वेंट सीनियर सेकेंडरी स्कूल, ग्रेटर नोएडा के बाहर आज सोमवार, दिनांक 14 जून को सुबह करीब नौ बजे सेक्टर 36 में रहने वाले कुछ स्थानीय अभिभावक, जिनकी संख्या 15 – 20 के करीब थी, द्वारा बिना किसी कोविड प्रोटोकाल का पालन करते हुए भ्रामक नारेबाजी की गई।

माहौल को खराब करने के लिए उपस्थित कुछ लोगों द्वारा ना सिर्फ स्कूल प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की जा रही थी बल्कि आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग भी हो रहा था।

इन सबके पीछे कारण ये था की कुछ लोगों द्वारा यह भ्रांति फैलाई जा रही थी कि स्कूल द्वारा फीस वृद्धि की गई है। जबकि तथ्य यह है कि स्कूल ने ना सिर्फ सभी छात्रों की एग्जाम फ़ीस माफ करी है बल्कि पिछले शैक्षिक सत्र की अपेक्षा (2019-2020) इस साल की फीस में 10% की छूट भी दी है।

यही कारण था की विद्यालय में 2400 से ज्यादा छात्र-छात्राओं के होने के बावजूद केवल दर्जन भर अभिभावक इस गैरजरूरी विरोध के लिए एकत्र हुए थे।

हालांकि, मौके पर उपस्थित भीड़ द्वारा स्कूल के सामने भारी अव्यवस्था उत्पन्न किये जाने के कारण विद्यालय प्रसाशन ने पुलिस को सूचित किया और उनसे व्यवस्था नियंत्रित करने के लिए सहयोग माँगा। तत्पश्चात पुलिस और आरडब्लूए अध्यक्ष कैलाश भाटी के उपस्तिथि में विद्यालय मैनजमेंट ने अभिभावकों से बातचीत कर सही तथ्यों को उनके सामने रखा।

स्कूल प्रसाशन का कहना है कि सही तथ्यों और बात को समझने के पश्चात सभी अभिभावक संतुष्ट हो कर अपने घरों को लौट गए। यह बातचीत दोपहर 1 बजे समाप्त हो गई थी।

हालांकि विद्यालय से जुड़े सूत्रों के अनुसार इसी दौरान कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा विद्यालय प्रधानाचार्य द्वारा अनुपस्थित रहने की भ्रामक एवं मनगढंत सूचना फैलाई जा रही थी जो पूरी तरह झूटी और द्वेषपूर्ण ।

“गैरजिम्मेदाराना पत्रकारिता करते हुए कुछ स्थानीय पत्रकारों द्वारा स्कूल से संपर्क करने की बजाए एक तरफा मनगढ़त अफवाहें खबर की तरह पेश करके के चलाई गई। यह बेहद दुखद है”, विद्यालय से संबंधित एक शिक्षक ने कहा।

एक अन्य सूत्र के अनुसार जिले में नवागत एक अधिकारी द्वारा भी इस हंगामे का अनुचित लाभ उठाने की कोशिश की गई और स्कूल द्वारा उनकी अनुचित माँग ना माने जाने पर उन्हीं के द्वारा अफवाहों का प्रचार-प्रसार स्कूल पर दबाव डालने के लिए किया गया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.